भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Palaeobotany Definitional Dictionary (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Endosporic

अन्तः बीजाणुक
(अंकुरण) जो बीजाणु भित्ति के अन्दर होता हो। इसके परिणामस्वरूप युग्मकोद्भिद् (गैमीटोफाइट) का परिवर्धन बीजाणु के भीतर होता है।

Endosporites

ऐन्डोस्पोराइटीज़
परागाणु उप अधोप्रभाग प्रोमोनोसैक्काइटीज का एक वंश।

Endospory

अन्तः बीजाणुकता
बीजाणुभित्ति के अंदर ही बीजाणु के अंकुरण तथा युग्मकोद्भिद् के परिवर्धन होने की अवस्था।

Endotesta

अन्तः बीजकवच
बीजाण्ड के कवच की तीन परतों में से सबसे अन्दर की परत।

Enzonalasporites

ऐन्ज़ोनैलास्पोराइटीज़
परागाणु अधोप्रभाग सैक्सीजोनाटी का एक वंश। इस परागाणु में गठिका (वेलम) होती है

Eoangiopteris

इओऐंजिऑप्टेरिस
संवहनी पादपों के फिलिकॉप्सिड़ा वर्ग के मैरेटिएलीज गण का एक अनंतिम वंश। कार्बनी युग की संबीजाणुधानियाँ पैकोप्टेरिस प्रकार के पिच्छकों पर लगी रहती हैं।

Eocene

इओसीन
(1) 3 से 5 करोड़ वर्ष पूर्व बने तृतीयक शैल। इनमें उच्चतर पादप बहुतायत से मिलते हैं।

Eospermopteris

इओस्पर्मोप्टेरिस
संवहनी पादपों के प्रोजिम्नोस्पर्मोंप्सिडा वर्ग के एन्यूरोफाइटेलीज गण का एक वंश। डिवोनियन युग के ये पौधे पर्णांग सरीखे होते हैं।

Ephedripites

इफेड्रीपिटीज़
परागाणु अधोप्रभाग कॉस्टैटी का एक वंश।

Epidogenesis

एपीडोजेनेसिस
प्रारंभिक कार्य का आरंभिक विस्तार। वृक्ष की वृद्धि के साथ, तने का व्यास तथा रंभ का आकार बढ़ता है और अधिक द्वितीयक दारु में जुड़ता जाता है।

Epimatium

एपीमेशियम
बीजाण्डों का मांसल आवरण जो शंकुघर पादपों के पोडोकार्पेसी कुल के बीजाण्डों में पाया जाता है।

Equator

मध्यरेखा, इक्वेटर
परागाणु के दो ध्रुवीय गोलार्धों में विभाजित करने वाली काल्पनिक रेखा।

Equatorial axis

मध्यरेखीय अक्ष
परागाणु के दो ध्रुवों को जोड़ने वाली रेखा से समकोण बनाता हुआ अक्ष।

Equatorial ridge

मध्यरेखीय कूटक
कुछ परागाणुओं में मध्य रेखा के प्रदेश में स्थित दो छिद्रों को जोड़ने वाला उभार।

Equisetaceae

इक्वीसिटेसी
संवहनी पादपों के स्फीनॉप्सिडा वर्ग के इक्वीसिटेलीज गण का एक कुल। डिवोनियन से आधुनिक युग तक के इस कुल की विशेषता है शाकीय तना तथा ऐसी पत्तियाँ जो आच्छद बनाती हैं।

Equisetales

इक्वीसिटेलीज़
संवहनी पादपों के स्फीनॉप्सिडा वर्ग का एक गण। इसका आविर्भाव डिवोनियन, युग में हुआ और कुछ प्रतिनिधि आज भी वर्तमान हैं। जुड़े हुए तने तथा चक्रों में विन्यस्त शिराहीन पत्तियाँ इसके प्रमुख लक्षण हैं। प्रमुख विलुप्त वंश हैं- कैलेमाइटीज, कैलेमोडेन्ड्रोन, कैलैमोस्टेकिस, एन्यूलेरिया, फिल्लोथीका आदि। एक वंश इक्वीसीटम आज भी विद्यमान है।

Equisetites

इक्वीसिटाइटीज़
संवहनी पादपों के स्फीनॉप्सिडा वर्ग के इक्वीसिटेलीज गण का एक वंश। कार्बनी तथा मीसोजोइक युग के इन तनों के साँचों तथा मुद्राश्मों में छत्राकार बीजाणुधानीघर पार्श्विक होते हैं।

Eretmomia

एरेटमोनिया
संवहनी पादपों के जिम्नोंस्पर्मोप्सिडा वर्ग के ग्लॉसोप्टेरिडेलीज गण का एक अनंतिम वंश। पर्मियन युग के ये परागधारी अंग पराग कोशों के सवृन्त गुच्छे हैं।

Ernestiodendron

अर्नेस्टियोडेन्ड्रॉन
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोंप्सिडा वर्ग के वोल्टशिएलीज गण का एक वंश। पर्मियन युग के इन पौधों की पत्तियाँ तने से सटी रहती हैं तथा सहपत्र शाखित होते हैं।

Etapterideae

इटैप्टेरिडी
संवहनी पादपों के फिलिकॉप्सिड़ा वर्ग के जाइगॉप्टेरिडेलीज गण का एक उप कुल। इसका प्रमुख वंश इटैप्टेरिस है।
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App