भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Palaeobotany Definitional Dictionary (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous12Next >

Halimeda

हैलीमेडा
एक शैवाल वंश जो प्रवालभित्तियों के निक्षेप के लिए उत्तरदायी है। जुरैसिक- क्रिटेशस युग के इस पादप का शरीर शाखित तंतुओं का बना होता है।

Halletheca

हालेथीका
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के टेरिडोस्पर्मेलीज़ गण का एक अनंतिम वंश। कार्बनी युग के ये परागधारी वंश नाशपाती के आकार की संवीजाणुधानियाँ हैं।

Haplocheilic

हैप्लोकाइलिक
(रंध्र सम्मिश्र) जिसमें दो द्वार कोशिकाएँ एक कोशिका से तथा सहायक कोशिकाएँ दूसरी वाह्यत्वचीय कोशिका से उत्पन्न होती है।

Haplostele

सरल रंभ
आदिरंभ का एक प्रकार जिसमें केन्द्रीय ज़ाइलम सिलिन्डर रूपी होती है। उदा. रैब्डोक्सिलॉन तने का रंभ।

Harris method

हैरिस विधि
क्यूटिकल आदि पादप अंशों को शैल से अलग करने की एक विधि, जिसमें शैल को पोटैशियम हाइड्रॉक्साइड वाले नाइट्रिक अम्ल में डुबो कर तोड़ा जाता है।

Harrisocarpon

हैरिसोकार्पोन
संवहनी पादपों के ऐंजियोस्पर्मोप्सिडा वर्ग के माल्वेसी कुल का एक वंश। पैलियोजीन युग के ये फल स्फोटी (कैप्सुलर) होते हैं।

Hedeia

हेडिया
संवहनी पादपों के राइनिऑप्सिडा वर्ग का एक वंश। डिवोनियम युग के इन पादपों में द्विशाखित नग्न अक्ष होता है।

Hemiparacytic

अर्ध पराकोशिकीय
(रंध्र सम्मिश्र) जिसमें द्वार-कोशिका सहायक कोशिका से केवल एक तरफ से घिरी रहती है क्योंकि इसमें केवल एक ही सहायक कोशिका होती है।

Hepaticites

हिपैंटिसाइटीज़
एक लिवरवर्ट वंश। कार्बनी युग के इन पादपों के जननांग नहीं खोजे जा सके हैं तथा थैलसी व पत्रिल दोनों प्रकर की जातियाँ इस वंश में रख दी गई हैं।

Heterangium

हिटरैन्जियम
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के टेरिडोस्पर्मेलीज़ गण का एक वंश। कार्बनी युग के ये विरलतः शाखित तने छोटे होते हैं जिनमें स्फीनॉप्टेरिस व रेडियो प्रकार की पत्तियाँ तथा टेलैन्जियम, टेलैन्जिऑप्सिस प्रकार की बीजाणुधानियाँ लगी होती हैं।

Heteropolar

विषमध्रुवीय
(परागाणु) जिसमें दो ध्रुव तो हों किन्तु परागाणु काय को दो समान भागों में विभाजित न किया जा सके
विप. Isopolar

Heterospore

विषमबीजाणु
=anisospore

Heterosporous

विषमबीजाणवी
दो प्रकार के बीजाणु उत्पन्न करने वाला। दे . Heterospory

Heterospory

विषमबीजाणुता
दो प्रकार के बीजाणु उत्पन्न करने की अवस्था। बड़े मादा बीजाणु गुरु बीजाणु तथा छोटे नर बीजाणु लघु-बीजाणु कहलाते हैं। यह अवस्था संवहनी पादपों के कई वर्गों में पाई जाती है। इसकी विकास समबीजाणुता से हुआ तथा अल्प विकसित विषम बीजाणवी पादपों में लघु और गुरु दोनों प्रकार के बीजाणु एक ही बीजाणुधानी में उत्पन्न होते है, किन्तु विकसित अवस्था में लघु और गुरु बीजाणुधानियाँ अलग-अलग होती हैं।

Hexacytic

षट् कोशिकीय
(रंध्र संम्म्श्र) जिसमें 6 सहायक कोशिकाएँ होती हैं।

Hexad

षटक
ऐसे 6 परागाणुओं का समूह जो एक ही मातृ कोशिका से बने होते हैं।

Hilates

हाइलेटीज़
परागाणु महाप्रभाग प्रोक्सीमेजेर्मिनान्टीज़ का एक उप प्रभाग, जिसमें वे बीजाणु सम्मिलित हैं जिनमें हाइलम होता है।

Hilate

हाइलमी
हाइलम युक्त।

Hilum

हाइलम
(1) बीज पर का निशान जो उस स्थान पर होता है यहाँ फ्यूनिकल पर बीज अथवा बीजाण्डासन (प्लेसेन्टा) पर बीजाण्ड जुड़ा था।

Hirmerella

हिरमेरेला
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के वोल्टजिएलीज़ गण का एक वंश। जुरैसिक युग के ये पादप छोटी पत्तियों वाले शंकुधर वृक्ष जैसे होते हैं। बीजाण्डी शंकुओं में 6 से 10 तक शल्क होते हैं और प्रत्येक शल्क में दो बीजाण्ड होते हैं।
< previous12Next >
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App