भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Palaeobotany Definitional Dictionary (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

Tetrastichia

टैट्रास्टिकिया
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के टिरिडोस्पर्मोलीज गण का एक वंश। कार्बनी युग के इन तनों के अनुप्रस्थ काट में आदि रंभ क्रॉसित दीखता है।

Tetraxylopteris

टैट्राजाइलॉप्टेरिस
संवहनी पादपों के प्रोजिम्नोस्पर्मोप्सिडा वर्ग के ऐन्यूरोफाइटेलीज गण का एक वंश। डिवोनियन युग के इन पौधों में बीजाणुधानी गुच्छ सम्मुख तथा क्रॉसित रूप में वियस्त होते हैं।

Texture

गठन
Polynol==Structure

Thallites

थैलाइटीज़
थैलसी आकार का एक असंवहनी पादप वंश। कार्बनी युग के ये पौधे शैवाल या ब्रायोफाइट हो सकते हैं।

Thallophyta

थैलोफाइटा
पुरानी वर्गीकरण पद्धति के अनुसार असंवहनी पादपों का एक संघ (फाइलम) जिसमें शैवाल, कवक तथा बैक्टीरिया शामिल हैं। इनका शरीर तंतुभय होता है तथै जड़ व तने का भेद नहीं होता। अलैगिक तथा लैगिक जननांग या तो एक कोशिकीय होते हैं और यदि बहुकोशिकीय हों तो प्रत्येक कोशिका उर्वर होती है।

Thamnopteris

थैम्नॉप्टेरिस
संवहनी पादपों के फिलिकॉप्सिडा वर्ग के फिलिकेलीज गण का एक वंश। पर्मियन युग के ये तने पर्णवृन्त के आधारों से आवृत रहते हैं।

Thucomyces

थूकोमाइसीज़
एक लाइकेन वंश। प्रोकैम्ब्रियन युग के इन पादपों में पटयुक्त कवकतंतु होते हैं तथा शैवाल अंश की उपस्थिति जैवरासायनिक प्रमाणों से सिद्धि होती है।

Torticaulis

टॉर्टीकौलिस
एक संभाव्य ब्रायोफाइट वंश। साइल्यूरियन युग के इन पौधों में तर्कु के आकार की बीजाणुधानियाँ होती हैं।

Torus

टोरस
परिवेशित गर्त की झिल्ली में पाया जाने वाला एक अंग जिसके केन्द्र में स्थूलता होती है।

Tracheid

संवाहिका, ट्रेकीड
लम्बी, गावदुम सी जाइलम कोशिका। ये पुरातन पादपों के संवहनी तत्व हैं तथा इनमें वलयाकार, कुंडलरूप या सीढ़ीनुमा स्थूलताएँ तथा परिवेशित गर्त भी हो सकते हैं।

Tracheophyta

ट्रैकियोफाइटा
पादप प्रभाग जिसमें संवहनी पादप आते हैं। टेरिडॉफाइटों से पुष्पी पादपों तक के इस समूह के मुख्य वर्ग हैं साइलॉप्सिडा, लाइकॉप्सिडा, स्फीनॉप्सिडा फिलिकॉप्सिड़ा, जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा तथा ऐंजिओस्पर्मोप्सिडा। जलसह क्यूटिकल, आंतरिक यांत्रिक उतक तथा जाइलम आसानी से जीवाश्म रूप ले लेते हैं इसी कारण साइल्यूरियन युग के अंत से आधुनिक युग तक इस प्रभाग के कई जीवाश्म मिल चुके हैं।

Transcolpate

अनुप्रस्थ कॉल्पसी
(परागाणु) जिसमें कॉल्पस अनुप्रस्थ दिशा में स्थित हों अर्थात ऐसे कॉल्पस हों जो मध्यवृत्त के समान्तर लम्बे हों।

Transfer method

स्थानान्तर विधि
पादप संपीडाश्मों को शैल से निकालने की विधि। इसमें जीवाश्म को शैल आधात्री से किसी दूसरे पदार्थ (जैसे सेलुलोस फिल्म) में स्थानान्तरित कर दिया जाता है।

Transition conifer

संक्रमणी शंकुधर
वोल्टजिएलीज का एक दूसरा नाम, जिसका आधार है इनके जननांगों का कार्डेटेलीज तथा आधुनिक शंकुघरों के बीच वाले लक्षणों का होना।

Triarch

त्रिआदिदारुक
(रंभ) जिसमें आदि दारु के तीन वर्धनक्षम केन्द्र हों।

Triassic

ट्राइएसिक
(1) मीसोजोइक शैल समूहों का पुरातनतम प्रभाग। ये लगभग 19.5 से 23.5 करोड़ वर्ष पूर्व बने तथा इनमें प्रमुख पौधे पर्णांग हैं।

Trichopitys

ट्राइकोपिटिस
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के गिंक्गोएलीज गण का एक वंश। पर्मियन युग के इन अक्षों में सर्पिलतः विन्यस्त पत्तियाँ होती हैं।

Trichotomocolpates

ट्राइकोटोमोकॉल्पेटिज़
प्रभाग प्लिकेटीज का उप प्रभाग जिसमें वे परागाणु सम्मिलित हैं जिनमें त्रिशाखित कॉल्पस होता है।

Tricoccites

ट्राइकोक्काइटी
संवहनी पादपों के ऐंजिओस्पर्मोप्सिडा वर्ग का एक वंश। पैलियोजोइक युगीन इन ताड़कुलीन पौधों में त्रिबीजी फल होते हैं।

Tricolpate

त्रिकॉल्पसी
(परागकण ) जिनमें तीन कॉल्पस होते हैं; कोई अन्य छिद्र या खात नहीं होते।
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App