भारतीय भाषाओं द्वारा ज्ञान

Knowledge through Indian Languages

Dictionary

Palaeobotany Definitional Dictionary (English-Hindi) (CSTT)

Commission for Scientific and Technical Terminology (CSTT)

A B C D E F G H I J K L M N O P Q R S T U V W X Y Z

< previous1234Next >

Teaniocrada

टीनियोकैडा
संवहनी पादपों के राइनियॉप्सिडा वर्ग का एक वंश। डिवोनियन युग के इन पौधों की नग्न, रिबन सरीखी शाखाओं के सिरों पर बीजाणुधानियाँ होती हैं।

Taeniopteris

टीनियॉप्टेरिस
पैलियोज़ोइक पर्णांगवत् पर्ण समूह का एक वंश। इन बड़े बड़े पर्णों में स्पष्ट मध्य शिरा होती है।

Tasmanites

तस्मानाइटीज़
एक हरित शैवाल वंश। डिवोनियन युग के ये एककोशिकीय पादप शैल को पीली सी आभा दे देते हैं।

Taxaceoxylon

टैक्सैसिऑक्सिलॉन
= Taxoxylon

Taxodioxylon

टैक्सोडिऑक्सिलॉन
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के कोनिफरेलीज गण का एक अनंतिम वंश। क्रिटेशस युग के इन काष्ठों में विशाल वहिनिकाएँ होती हैं।

Taxoxylon

टैक्सोक्सिलॉन
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिड़ा वर्ग के टैक्सेलीज गण का एक अनंतिम वंश। मीसोजोइक युग के इन काष्ठों में तृतीयक भित्ति स्थूलता लिए होती है।

Tectate

टैक्टमयुक्त
(परागाणु) जिसमें टैक्टम हो।

Tectum

टैक्टम
एक्टेक्साइन को ढकने वाली झिल्ली, जो कभी पूर्ण होती है कभी अपूर्ण।

Tegillate

टेजिलमयुक्त
(परागाणु) जिसमें टेजिलम हो।

Tegillum

टेजिलम
ऐक्टोसैक्साइन की समांगी परत जो नेक्साइन से विलग होती है।

Telangium

टेलैंजियम
संवहनी पादपों के जिम्नोस्पर्मोप्सिडा वर्ग के लाइजिनॉप्टेरिडेलीज गण का एक अनंतिम वंश। कार्बनी युग के ये परागधारी अंग संभवतया लाइजिनॉप्टेरिस के हैं।

Teleutosporites

टेल्यूटोस्पोराइटीज़
एक कवक वंश। कार्बनी युग के तथा लेपिडोडेड्रान पर परजीवी ये कवक पक्सीनिया के कुल के जैसे हैं।

Tempskya

टेम्सक्या
संवहनी पादपों के फिलिकॉप्सिड़ा वर्ग के फिलिकेलीज गण का एक वंश। जुरैसिक से क्रिटेशस युग के ये आभासी तने वास्तव में तने, पर्णाधार तथा जड़ के समुच्चय हैं।

Tempskyaceae

टेम्सक्येसी
संवहनी पादपों के फिलिकॉप्सिडा वर्ग के फिलिकेलीज गण का एक कुल। मीसोज़ोइक युग के इन कुल का प्रारूपिक वंश टेम्सक्या है।

Tentpole

टेन्टपोल, शिविर दंड
फाइसोस्टोमा आदि कुछ बीजों के गुरु यग्मकोद्भिद् के दूरस्थ सिरे पर की कोशिका गद्दी सा ऊतक, जो गृहीत पराग को बाहर नहीं निकलने देता।

Tertiary

टरशिएरी, तृतीयक
(1) सीनोजोइक के दो विभागों में से पुरातन विभाग जिसमें पैलियोसीन इओसीन, ओलिगोसीन, मायोसीन तथा प्लायोसीन सम्मिलिति है।

Tettracytic

चतुष्कोशिकीय
(रंध्र संमिश्र) जिसमें चार सहायक कोशिकाएँ द्वार कोशिकाओं को घेरे रहती हों।

Tetrad

चतुष्क
एक ही मातृकोशिका से उपजे चार परागाणुओं का समुच्चय। ये चार सदस्य विलग होने पर स्वतंत्र आचरण करते हैं।

Tetradites

टेट्राडाइटीज़
प्रभाग ज़गेटीज़ का उप प्रभाग जिसमें वे पराग सम्मिलित हैं जो चतुष्कों में होते हैं।

Tetrarch

चतुरादिदारुक
(रंभ) जिसमें आदि दारु के चार वर्धनक्षम केन्द्र हों।
< previous1234Next >
Follow Us :   
  Download Bharatavani App
  Bharatavani Windows App